Thursday, 1 September 2016

रह जाता - राकेश रोहित

धरती की तरह
                    सह जाता
नदी की तरह
                     बह जाता
चिड़िया की तरह
                     कह जाता
तो दुख की तरह
                      रह जाता
मैं भी
मन में और जीवन में!

2 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (02-09-2016) को "शुभम् करोति कल्याणम्" (चर्चा अंक-2453) पर भी होगी।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete